ओशो (Osho) के चुनिन्दा 100 अनमोल विचारों का संग्रह ओशो (Osho 100 Quotes Collection in Hindi




ओशो (Osho) के चुनिन्दा 100 अनमोल विचारों का संग्रह ओशो (Osho 100 Quotes Collection in Hindi
ओशो (Osho) के चुनिन्दा 100 अनमोल विचारों का संग्रह ओशो (Osho 100 Quotes Collection in Hindi

स्त्री   पारस है वह  प्रेम करती नहीं   प्रेम में बसती है
 जिस रिश्ते को छू ले
उसे  प्रेम मय बना देती है

Osho ओशो

हर कोई शिक्षा इसलिए हासिल कर लेना चाहता है
जिससे वह इस दुनिया में पैसा कमा सके
शिक्षा का असली मकसद यह होना चाहिए कि
उससे आपकी समझ विकसित हो

Osho ओशो

रूह से जुड़े  रिश्तो पर
फरिश्तों के पहिरे हो ते है
कोशिशें कर लो तोड़ने की
येओर भी गहरे होते है

Osho ओशो

कुछ साथ यकीन दिलाते है कि प्रेम वाकई खूबसूरत है
लोग ओशो के विचार तो चुरा लेते हैं
लेकिन स्वीकार नहीं करते

Osho ओशो

सभी लोग ओशो को समझ सकेंगे यह नामुमकिन है
ध्यान आता है तो मन जाता है 
मन है द्वार संसार का ध्यान है द्वार मोक्ष का

Osho ओशो

मिल कर बैठ गए मजलिस में जुगनू सारे
और ऐलान हुआ सूरज को बदला जाएगा


Osho ओशो

वर्त सिर्फ अंधे लेते हैं आंख वाले लोग व्रत नहीं लेते
आंख वाले लोग जिस ढंग से जीते हैं
वह व्रत है ओशो

Osho ओशो

गंभीर मत होओ अपनी गपशप का आनंद लो
जीवन की छोटी छोटी चीजों का
जीवन के छोटे-छोटे सुखों का आनंद लो
यह सब तुम्हारे अंतस को समृद्ध करते हैं

Osho ओशो

सुगम है मंदिर जाना  मन में जाना कठिन है
इसलिए सुगन को लोग चुन लेते हैं
पर सुगंम के सत्य से कोई संबंध नहीं है
सुविधा से सत्य का कोई संबंध नहीं है इसलिए

Osho ओशो

अधिक लोग पूजा करते हैं प्रार्थना करते हैं
पर बहुत थोड़े लोग ध्यान करते हैं
पर जो ध्यान करते हैं
वे ही पहुंचते हैं
परमात्मा तक

Osho ओशो

प्रार्थना का ना तो कोई शास्त्र से संबंध है
ना शब्दों से यह तो निशब्द
हृदय की पुकार है
ओशो ‌

Osho ओशो

जब तक तुम डरते रहोगे


तुम्हारी जिंदगी के फैसले
लोग ही 
लेते रहेंगे

Osho ओशो

दूसरों के भय से मत जीना
अपने आनंद के कारण जीना

Osho ओशो

अपनी प्यास को खोजो
ओशो ‌सौभाग्य है उन लोगों का
जो सत्य के लिए प्यासे हो सके

Osho ओशो

Life you love a person
give them infinite space
ओशो

Osho ओशो

बुद्ध जैसा व्यक्ति जब भी कहीं पैदा होगा
पंडित और पुरोहित उसके  विपरीत खड़े हो जाएंगे
क्योंकि उसकी चोट
उनके पूरे धंधे को ही तोड़ने लगती है

Osho ओशो

मरते समय सुना दी गीता
मर जाने पर कहते राम
इतनी सस्ती मुक्ति अगर हो
सब पा जाते ईश्वर धाम

Osho ओशो

पृथ्वी पर ओशो ही एक मात्र ऐसे गुरु हैं
जो मनुष्य को
भक्त नहीं भगवान बनाना
चाहते हैं

Osho ओशो

सबका दिल रखना है तो सबसे
पहले अपना दिल डस्टबिन में 
रखना पड़ता है

Osho ओशो

होश मे झूठ बोलना भी पुण्य है
और बेहोशी में सत्य
बोलना भी पाप है

Osho ओशो

जमाना कुछ भी कहे परवाह ना कर
और जिसे जमीर ना माने  सलाम मत कर

Osho ओशो

बहुत दूर है मेरे शहर से तेरा शहर
फिर भी हवा के हर झोंके से
हम तेरा हाल पूछते हैं

Osho ओशो

प्यार कोई बोल नहीं
प्यार आवाज नहीं
एक खामोशी है
सुनती है कहा करती है



Osho ओशो

बेहद खूबसूरत हो सकती है उदासी भी
पर उसे पढ़ पाना हर नजर की
बस की बात नहीं

Osho ओशो

हम जो चलते हैं तेरे इश्क के अंगारों पर
पाओ तो जलते हैं
मगर दिल को करार आता है

Osho ओशो

अभय का अर्थ है
अकेले होने का साहस

Osho ओशो

परवाह करने की आदत नहीं
तो परेशान कर दिया
अगर बेपरवाह होते तो
सुकून बहुत होता जिंदगी में

Osho ओशो

बाहर जन्म और मृत्यु के बंधन
भीतर ज्योति मारय गठबंधन
वर्तमान

Osho ओशो

जब तक तुम्हें आनंद नहीं मिला है
तुम आनंद दे नहीं सकते
तुम दुख ही दे सकते हो

Osho ओशो

पानी को कसकर पकड़ोगे तो हाथ से छूट जाएगा
उसे बहने दो वह अपना रास्ता खुद बना लेगा
कभी-कभी जब परिस्क्षितया समझ में ना आए
तो जो कुछ जीवन में घटित हो रहा है
उसे शांत भाव व तटस्थ होकर सब देखना चाहिए
समय आने पर जीवन अपना मार्ग खुद बना लेगा
भगवान गौतम बुद्ध

Osho ओशो

चुप हूं तो पत्थर ना समझ मुझे
दिल पे असर हुआ है 
किसी अपने की बात का

Osho ओशो

हालांकि हम कुछ नहीं जानते
जिंदगी के बारे में
मगर सोचते बहुत हैं
ओशो

Osho ओशो

हर बच्चा नास्तिक पैदा होता है
वह जिस प्रवेश में रहता है आस्था से
ग्रसित लोग उसे धर्म और आस्था का
गृसत हो जाता है जो बाद में अंधविश्वास
पाखंड का कारण बनते हैं

Osho ओशो

मुझको मंजूर है गलतियों में तमाशा बनाना
शर्त यह है कि गलतियां मेरे दिलदार की हो
समाधि के सप्त द्वार

Osho ओशो

क्रोध करना है तो कहना कल करेंगे
चोरी करना हो तो कहना कल करेंगे
गर्दन किसी की काटनी हो तो कहना कल काटेंगे
फिर तुम से पाप होगा ही नहीं क्योंकि कल कभी नहीं आता
जो ठीक करना हो शुभ करना हो
तो वह अभी कर लेना अगर उसे कल पर टाला तो
वह भी नहीं हो सकेगा

Osho ओशो

उस जीवन से प्रेम करो
जिसे तुम जी रहे हो
उस जीवन को जिओ
जिसे तुम प्रेम करते हो

Osho ओशो

अच्छे लोगों की परीक्षा कभी न लीजिए
क्योंकि वह पारे की तरह होते हैं
जब आप उन पर चोट करते हैं
तो वह टूटते नहीं हैं
लेकिन फिसल कर चुपचाप
आपकी जिंदगी से निकल जाते हैं

Osho ओशो

जिस तरह चाहे नाच ले तू
इशारे पर झूमे ए मालिक
तेरे ही लिखे हुए अफसाने का
किरदार हूं मैं

Osho ओशो

इंसानों के अलावा पृथ्वी पर
लाखों पर जातियों के जीव जंतु हैं
जिनको जीने के लिए किसी
भगवान की जरूरत नहीं है

Osho ओशो

मैं तब भी झुकके बांध दूंगा
तुम्हारे पैरों में पायल
हां उस उम्र में भी जब मेरे घुटनों में दर्द होगा

Osho ओशो

आप किसी इंसान का दिल कब तक दुखा सकते हो
जब तक वह आपसे प्यार करता है 

Osho ओशो

अंत काल तक ज्ञानी का प्रभाव शेष रहता है
उसका प्रभाव कभी मिटता नहीं
क्योंकि वह उसका प्रभाव ही नहीं
वह परमात्मा का प्रभाव है
अगर वह ज्ञानी का प्रभाव होता
तो कभी का मिट जाता
लेकिन यह शास्त्रवक्त 
सत्य का प्रभाव है
वह कभी नहीं मिटत.  

Osho ओशो

ध्यान के अतिरिक्त आंनदित
होने का और कोई उपाय नहीं
 ओशो

Osho ओशो

हम वह लोग हैं
जिन्हें रस्मे  ए दुआ याद नहीं
इस साजे मोहब्बत के सिवा
कोई रब कोई खुदा याद नहीं

Osho ओशो

सभी जन्म कारग्रह में होते हैं
सभी मृत्युए कारग्रह में नहीं होती
कुछ मृत्युए मुक्ति में होती हैं
कुछ अधिक कार ग्रह में होते हैं
जन्म तो बंधन में होगा मरते क्षण तक
अगर हम बंधन से छूट जाएं टूट जाएं
सारे कारग्रह तो जीवन की
यात्रा सफल हो गई

Osho ओशो

अजीब सिलसिला है उसकी मोहब्बत का
न उसने कैद में रखा ना हम हिरा हो पाए


Osho ओशो

आप चाह कर भी अपने प्रति लोगों की
धारणा को कभी नहीं बदल सकते
इसलिए सुकून से अपनी जिंदगी जिऐ
और खुश रहें

Osho ओशो

जितने आप दूसरों लोगों से दूर होकर अकेले में चलेंगे
अपने में चलेंगे दूसरे को छोडेंगे और स्वय में चलेगे
उतनी ही ज्यादा गहराई में उतनी ही ज्यादा
गहराई में आप पहुंचेंगे
और यह बड़ा रहस्य है की आपके भीतर आप जितनी गहराई में पहुंचेंगे आपका बाहर जीवन उतनी ही ऊंचाई को
उपलब्ध हो जाएगा
ध्यान सूत्र ओशो

Osho ओशो

जब तक मन में खोट और दिल में प्यार है तब तक बेकार सारे मंत्र और जाप है
आप अगर सदैव अपने भविष्य के बारे में सोचेंगे
तो वर्तमान के आनंद से वंचित रह जाओगे

Osho ओशो

नफरत खुलकर और मोहब्बत छिपकर करते हैं
हम अपने ही बनाए दुनिया से कितना डरते हैं
मनुष्य सब कुछ देकर भी यही सोचता है कि अभी कम दिया

Osho ओशो

जिसने स्वय को जाना उसका संसार समाप्त हुआ
और जिसने स्वय को नहीं जाना उसका संसार कभी समाप्त नहीं होता

Osho ओशो

संसार छोड़ने से तुम स्वय को ना जान सकोगे
लेकिन स्वय को जान लो तो संसार छूट गया
परदों की यात्रा शरण ली है और सर्वाधिक कठिन डी सरल इसलिए कि जिसे पाना है उसे हमेंने सदा से पाया ही हुआ है जिसे खोजना है उसे हमने वस्तुत कभी खोया नहीं है

Osho ओशो

यहां तक लाने का शुक्रिया दोस्तों आगे का सफर हम खुद कर लेंगे

Osho ओशो

  इनतजार कीआरजू अब खोगयी है 
खामोशियो कि आदत होगयी है
ना शिकवा रहा ना  शिकायत किसीसे
अगर है तो एक मोहब्बत 
जो  इन। तन्हाईयो से हो गयी है

Osho ओशो

मसरुफियत मे आती है तेरी बेहद याद 
फुर्सत  मे तेरी याद से फुर्सत नही मिलती

Osho ओशो

साधक को यह शृभ तोड़ देना चाहिए  
यह कोना उजाड़ देना चाहिए
उसे जान लेना चाहिए ठीक ठीक कि मेरा कोई नाम नही है 
मेरी कोई जाती नही है मेरा कोई देश नही है मेरा परिचय नही मै बिलकुल अज्ञात हूं जैसे ये। हवाओं के झोंके अज्ञात है जैसे ये वृक्ष अज्ञात है जैसे ये आकाश के चांद तारे अज्ञात है जैसे यह सागर का पानी अनाम और अपरिचित और ‌अज्ञात हैं वैसे आदमीयों के जीवन की लहरें भी अज्ञात है अनजानी हैं अपरिचित हैं नेती नेती सत्य की खोज
ओशो

Osho ओशो

मनुष्य जीवन का चरम लक्षय कर्म नहीं है मनुष्य जीवन का लक्ष्य आत्मज्ञान या बुध्दत्व। है कर्म नश्र्वर हैं  आत्मज्ञान शाव्श्रत हैं

Osho ओशो

अस्तत्व ने  आनंद दिया है दुख  हमारी अपनी खोज है
वो रिसता कभी नहीं टुट सकता जिसमें निभाने की चाहत
दोनो तरफ से है

Osho ओशो

ज़िन्दगी बातो का बतासा  नहीं है मेरी नजर
मे नजर में कोई तमाशा नही है
जिन्दगी खेल है इसे जी भर खेलों
जो रोना सके वो मुस्कुराता नहीं है

Osho ओशो

घबरा न सितम से न करम से न अदा से
हर मोड़ यहा राह दिखाने के लिए है
जिसे हम प नहीं पाते उसे मत समझना कि हम ने छोडा है 
जिसे हम पाकर छोड़ते हैं उसे ही समझना कि छोड़ा है

Osho ओशो

गुनगुनाता जा रहाथा इक फकीर धूप रहती है ना साया देर तक

Osho ओशो

तुम भी उससे बधं गऐ हो जिसे तुम ने बांध लिया बंधन कभी
एकतरफा नहीं हो ता।   ओशो

Osho ओशो

तेरे इश्क में ऐ अजनबी
 हम इतने चुप हो गए
 ‌  लिखते रहें तेर बारे में
 और खुद मशहूर हो गए

Osho ओशो

मनुष्य कोरे कागज कि भाती पैदा होता है 
जिस पर कोई भी लिखावट नही है 
फिर जो लिखता है स्वय वहीं उसका भाग बन जाता है
मनुष्य अपना भाग्य निर्माता है स्रर्ष्टा है

Osho ओशो

ईश्वर सरल है यही उसका पता है
 मैं ढूंढ रहा था शराब के अन्दर
 नशा निकला शराब के अन्दर

Osho ओशो

तेरे बाद किसी को प्यार से नहीं देखा हमने
     हमें इश्क का शौक है आवारगी क नहीं
लिपट कर रोये है बेटियों से अपनी हालत पे 
जो कहते थे विरासत के लिए बेटा जरुरी है

Osho ओशो

इस दुनियां में सम्मान से जीने का सबसे महान तरीका है कि हम वो बनें जो 
हम होने का दिखावा करते हैं

Osho ओशो

बिन छुये ही रंग गया इश्क तेरा रंग रेज पिया
जो भी समस्या आये ध्यान करते रहना
धीरे धीरे हर समस्या विदा हो जाएगी।    औशो

Osho ओशो

जब किसी की संगत से आपके विचार
शुध्द होने लगे तो समझना वो कोई
साधारण व्याक्ती नहीं है
प्यार एक पंक्षी है जिसे आजाद रहना पसंद हैं जिसे बढने के लिए पूरे आकाश की जरुरत होती है
आपकी मुस्कान आपके चेहरे
पर भगवान के हस्ताक्षर है इसे आंसुओं से धुलाने
या क्रोध से नष्ट न हो ने दें
किसी को अपवित्र किए बगैर 
प्रेम करना ही पवित्र प्रेम है राम कृष्ण परमंहस करते हैं जीवन का विश्र्लेषण करना बंद कर दो यह इसे जटिल बना देना
जीवन को सिर्फ जियो

Osho ओशो

तारीफ के मुहताज नहीं है हम फूलों पर कभी इत्र 
लगाया नही जाता
तेरी रुह का मेरी रुह से निकाह हो गया है
जैसे किसी और को सोचो तो नाजायज
स लगता है जिसका पृसिध्द वचन है जो बचाएगे खो देंगे
और जो खोने को राजी हैं उनका बचत जाता है
बड़ा उलटा गणित है 
औशो कहे वाजिद पुकार

Osho ओशो

कौन कहता है इंसान रंग नहीं बदलता 
किसी के मुंह पर हच बोलकर तो देखिए
एक नया ही रंग सामने आएगा
भृम हमशा रिश्तों को बिखेरता है
और प्रेम से अजनबी भी बंध जाते हैं

Osho ओशो

अम्मी कहुंगा तुम्हें शिकवा तो नहीं
सुना है हर बच्चे की तुम मन्नत क़ुबूल कर हो

Osho ओशो

प्यार एक ऐसा तोहफा है देन लग जाओ तो
बेजुबान भी झुक जाते हैं

Osho ओशो

तुम्हारी सारी पूजा झूठी क्योंकि अपराध से उठीं है आनंद से नहीं आनंद तो तुम्हारे पास है ही नहीं
तुम जिस चीज़ को जान लेते हो उसी से मुक्त हो जाते हो
जिसको नहीं जान पाए उसी से बंध जाते हो

Osho ओशो

इबादत वो है जिस में जरुरतों का जिक्र ना हो
सिर्फ उसकी रहमतों का शुक्र हो
नेता जितने जोर से मंच चिल्लाते हैं
कि भ्रष्टाचार मिटा देंगे वे उस मंच तक बिना भ्रष्टाचार के 
पहुंच नहीं पाते जहा से भ्रष्टाचार मिटाने का व्याख्यान देना पड़ता है उस मंच तक पहुंचने के लिए भ्रष्टाचार की सीढ़ियां
पार करनी पड़ती है

Osho ओशो

जो जानता है हर जगह परमात्मा को पाता है
यकीन कीजिए ईश्र्वर के फैसले हमारी ख्वाहिशो से बेहतर
होते हैं

Osho ओशो

असली मर्द हालातों से लड़ते हैं और कमजोर मर्द घर की
स्त्रियों से
साकी शराब देना तो मस्जिद से दूर दूर
बोतल तो एक है कहीं खुदा न मागले

Osho ओशो


conclusion 

दोस्तों मुझे उम्मीद है ओशो (Osho) के चुनिन्दा 100 अनमोल विचारों का संग्रह ओशो (Osho 100 Quotes Collection in Hindi ki ye post Aap sabhi ko bahut pasand Aayi hogi Aap ne doston ke sath zaroor share kare

writer by wajihuddeen salmani

0 टिप्पणियां